Aarti

आरती (Aarti) हिंदू धर्म में एक पूजा की रीति है, जिसमें दीपक की लौ से देवी-देवताओं का सम्मान किया जाता है। आरती के समय भक्तजन देवी-देवताओं की प्रशंसा या स्तुति के रूप में गीत या छंद गाते हैं।आरती भारतीय संस्कृति में एक प्रमुख पूजा पद्धति है, जो धार्मिक उपास्यता के अभिन्न अंग के रूप में विशेष महत्व रखती है। यह हिंदू धर्म में विभिन्न देवी-देवताओं के समर्पण और आदर्शों को प्रकट करने का एक साधन है। इस ब्लॉग पोस्ट में, हम आरती के महत्व, विधान, और इसके प्रकारों पर विचार करेंगे।

आरती का शाब्दिक अर्थ है “अंधकार हटाने वाला”। पूरी श्रद्धा के साथ परमात्मा की भक्ति में डूब जाना। आरती को नीराजन भी कहा जाता है. नीराजन का अर्थ होता है विशेष रूप से प्रकाशित करना. यानी देव पूजन से प्राप्त होने वाली सकारात्मक शक्ति हमारे मन को प्रकाशित करके हमारे व्यक्तित्व को उज्जवल कर दें। आरती का प्रचलन वैदिक काल से ही है, जब होम/यज्ञ में अग्नि का महत्वपूर्ण स्थान होता था। आरती में प्रस्तुत किए जाने वाले पदार्थों में प्रकृति के पांच महाभूत (पृथ्वी, जल, अग्नि, वायु, आकाश) का प्रतिनिधित्व होता है।

  • पुष्प – पृथ्वी
  • पानी – जल
  • दीपक – अग्नि
  • पंख – वायु
  • सुपारी – आकाश

इसके साथ ही, धूप से मन को पवित्र करने का संकेत होता है, और समय-नियम का पालन करने से “बुद्धि” को समर्पित किया जाता है। इस प्रकार, समस्त सृष्टि को परमेश्वर को समर्पित करने का प्रतीक होता है। Aarti में प्रस्तुत किए जाने वाले प्रमुख प्रसंगों में से कुछ हैं:

  • मंगला – सुप्रभात
  • राज-भोग – मुख्य-प्रसाद
  • संध्या – संधि-काल
  • सहस्र – महिमा
  • सुहाग – पति-प्रेम
  • निरंजन – महा-प्रसन्नता

Aarti/आरती का महत्व

आरती, भक्ति और समर्पण के प्रतीक है, जिससे आप अपने इष्ट देवी-देवता के प्रति अपने भावों को स्पष्ट कर सकते हैं। इसे विशेष धार्मिक अवसरों पर किया जाता है, जैसे मंदिरों में पूजा, दीपावली, नवरात्रि, और जन्माष्टमी आदि। आरती गाने से मन को शांति और आनंद मिलता है और धार्मिक अनुष्ठान का माहौल बनता है।

आरती की प्रक्रिया

Aarti के लिए हमें मेटल (सिल्वर, ब्रोंज, कॉपर) की प्लेट में मिट्टी, मैदा या मेटल का बना हुआ दीपक (लैंप) में घी (ghee) या तेल (oil) में 1 से 5 (हमेशा odd number) कपास (cotton) के wicks (batti)  लगाकर lighted (jalana)  करना होता है। प्लेट में flowers (phool), incense (agarbatti), akshata (chawal)  होने  चाहिए।

आरती के समय हमें प्रकाश (light)  को प्रभु (god)  के सामने clockwise direction में three times circle (ghumana)  करना होता है,  साथ-साथ prayer (prarthana)  or hymn (bhajan)  chanting (bolna)  or singing (gana)  करना होता है। फिर हमें प्रकाश को अपने हाथों में लेकर अपने माथे (forehead)  तक ले जाना होता है, जिससे हमें प्रभु का blessing (aashirwad)  मिलता है।

आरती (Aarti) के प्रकार

आरती कई प्रकार की होती है, जैसे कि देवी-देवताओं की आरती, गुरुओं की आरती, गंगा-यमुना की आरती, सूर्य-चंद्र की आरती, संतों की आरती, मानव-पशु-पक्षियों की आरती, स्वयं की आरती, समस्त संसार की आरती, आदि।

आरती के विधान:

आरती अपनी विशेषता के लिए जानी जाती है, जिसमें भक्त अपने इष्ट देवी-देवता को ज्ञान और भक्ति से समर्पित करता है। आरती में विशेष संगीत और भजनों के साथ दिया, धूप, चम्पा, और बेल की पूजा होती है। यह एक आदर्शिक प्रक्रिया है जो धार्मिक उपास्यता के भाव में रंग भरती है।

आरती के फायदे

Aarti करने से हमें कई फायदे मिलते हैं, जैसे कि:

  1. हमारा मन प्रकाश में मग्न होकर प्रभु को स्मरण करता है, जिससे हमें प्रभु का grace (kripa)  मिलता है।
  2. हमारा मन स्वच्छ (clean) , स्थिर (stable) , सुन्दर (beautiful) , सुखी (happy) , शांत (peaceful) , प्रसन्न (pleased) , प्रेमपूर्ण (loving) , सेवापरायण (devoted) , समर्पित (surrendered) , संतुलित (balanced) , सहनशील (tolerant) , सहयोगी (cooperative) , सहानुभूति (compassionate) , सहकारी (helpful) , सहस्रार (enlightened)  होता है।
  3. हमें प्रकाश के माध्यम से प्रभु के सुंदर स्वरूप, गुण, कल्याणकारी क्रिया, महिमा, प्रेम, अनुकंपा, सहायता, संरक्षण, पोषण, पालन, प्रेरणा, मार्गदर्शन, उपलब्धि, उन्नति, समृद्धि, मुक्ति, आनंद, आदि का अनुभव होता है।
  4. हमें प्रकाश के माध्यम से प्रकृति के पंच-महाभूत (space/akash, wind/vayu, fire/agni, water/jal, earth/prithvi)  का balance (santulan)  होता है, जिससे हमें health (swasthya) , wealth (dhan) , happiness (sukh) , peace (shanti) , prosperity (samriddhi)  मिलता है।

आरती एक ऐसा माध्यम है जो भक्ति और समर्पण का अभिन्न हिस्सा है और यह हमें आध्यात्मिक उन्नति और आनंद की प्राप्ति में सहायक सिद्ध होती है। यह धार्मिक अनुष्ठान के लिए अद्भुत एवं सकारात्मक अनुभव प्रदान करती है।